कांग्रेस अध्यक्ष पद चुनाव पर 5 सांसदों ने जताई चिंता

CEA चीफ मधुसूदन मिस्त्री को लिखा लेटर; कहा- वोटर लिस्ट को सार्वजनिक किया जाए

कांग्रेस में अध्यक्ष पद के चुनाव से पहले ही पार्टी में दरार दिखने लगी है। पार्टी के कई सीनियर नेता इस पर अपनी अलग-अलग राय दे रहे हैं। अब कांग्रेस के 5 सांसदों ने पार्टी के सेंट्रल इलेक्शन अथॉरिटी (CEA) के चीफ मधुसूदन मिस्त्री को लेटर लिखा है। लेटर में सांसदों ने पार्टी अध्यक्ष की चुनाव प्रक्रिया को लेकर चिंता व्यक्त की है। सांसदों में मनीष तिवारी, शशि थरूर, कार्ति चिदंबरम, प्रद्युत बोरदोलोई, अब्दुल खलीक का नाम शामिल है।

इन सांसदों ने कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए निष्पक्ष चुनाव न होने को लेकर आशंका जताई है। उन्होंने मिस्त्री से अपील की है कि वोटिंग में हिस्सा लेने वाले और संभावित उम्मीदवारों के नामांकन की प्रक्रिया शुरु होने से पहले कांग्रेस कमेटी के डेलीगेट की लिस्ट उपलब्ध करवाई जाए।

सांसदों ने लेटर में कहा कि उनका मतलब ये कतई नहीं है कि पार्टी के किसी आंतरिक दस्तावेज को ऐसे ढंग से जारी किया जाए कि इसका किसी भी तरीके से दुरुपयोग हो। CEA ने मधुसूदन मिस्त्री से आग्रह किया है कि प्रदेश कांग्रेस कमेटी (PCC) के निर्वाचक मंडल की लिस्ट वोटिंग में हिस्सा लेने वालों और संभावित उम्मीदवारों को दी जाए।

6 सितंबर को लिखी गई थी लेटर
लेटर में यह भी कहा गया कि मतदाताओं और उम्मीदवारों से सभी 28 PCC और नौ केंद्र शासित प्रदेशों में वोटर लिस्ट वेरिफाइ करने की उम्मीद नहीं की जा सकती है। निर्वाचक मंडल में शामिल PCC प्रतिनिधियों की सूची निर्वाचकों को उपलब्ध कराने से उम्मीदवार किसी भी तरह की गैरजरूरी मनमानी को दूर कर सकेंगे।

रिपोर्ट् के मुताबिक यह लेटर भारत जोड़ो यात्रा अभियान शरू होने के एक दिन पहले छह सितंबर को लिखी गई थी। सांसदों ने पहले यह लिस्ट सार्वजनिक करने का आग्रह किया था, जिससे मिस्त्री ने साफ इनकार कर दिया था।

पहले भी कर चुके मांग
इससे पहले भी कांग्रेस के सीनियर लीडर और जी-23 के असंतुष्ट नेताओं के मेंबर मनीष तिवारी ने कांग्रेस संगठन चुनाव की निष्पक्षता पर सवाल खड़े किए थे। उन्होंने कहा था कि वोटिंग लिस्ट के बिना कांग्रेस अध्यक्ष पद के निष्पक्ष चुनाव कैसे होंगे? उन्होंने मांग की कि निष्पक्ष चुनाव के लिए पार्टी के वोटर का नाम-पता पब्लिश किया जाना चाहिए।

तिवारी ने मिस्त्री से कहा था कि वोटिंग को कांग्रेस की वेबसाइट पर पारदर्शी तरीके से पब्लिश किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा था कि निष्पक्ष चुनाव की पहली शर्त है कि वोटरों के नाम पते सामने लाए जाएं। पार्टी नेता शशि थरूर और कार्ति चिदंबरम भी इस मसले पर अपनी बात चुके हैं।

19 अक्टूबर को मिलेगा कांग्रेस को फुल टाइम प्रेसिडेंट

कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए 17 अक्टूबर को वोटिंग होगी और 19 अक्टूबर को काउंटिंग होगी। चुनावी शेड्यूल के मुताबिक 22 सितंबर को चुनाव संबंधी नोटिफिकेशन जारी होगा। 24 सितंबर से 30 सितंबर तक नॉमिनेशन किए जा सकेंगे। हालांकि, अगर अध्यक्ष पद के लिए सिर्फ एक उम्मीदवार होता है तो ऐसी स्थिति में रिजल्ट की घोषणा 30 सितंबर को ही की जा सकती है।

29 अगस्त को हुई कांग्रेस वर्किंग कमेटी (CWC) की बैठक के बाद सेंट्रल इलेक्शन अथॉरिटी के अध्यक्ष मधुसूदन मिस्त्री ने यह जानकारी दी।

मनीष तिवारी के बगावती तेवर; बोले- मैं कांग्रेस में किराएदार नहीं

पंजाब के आनंदपुर साहिब से कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने भी बगावती तेवर दिखाए हैं। शनिवार को तिवारी ने कहा, ‘हमें किसी सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं है। मैंने 42 साल इस पार्टी को दिए हैं। जिन लोगों ने पत्र लिखे हैं, उन्होंने मुझसे ज्यादा समय पार्टी को दिया है। इस संस्था में हम किराएदार नहीं है, हिस्सेदार हैं। आप धक्के मारकर निकालने की कोशिश करोगे तो देखा जाएगा।’

गुलाम नबी ने कांग्रेस छोड़ी, नई पार्टी बनाएंगे

गुलाम नबी आजाद ने कांग्रेस के सभी पदों और सदस्यता से इस्तीफा दे दिया। वह जल्द ही एक नई पार्टी लॉन्च करेंगे और इसकी पहली यूनिट जम्मू-कश्मीर में शुरू की जाएगी। आजाद बोले- मुझे अभी एक नेशनल पार्टी लॉन्च करने की कोई जल्दी नहीं है, लेकिन यह ध्यान में रखते हुए कि जम्मू और कश्मीर में चुनाव होने की संभावना है, मैंने जल्द ही वहां एक यूनिट लॉन्च करने का फैसला किया है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.