एजेंसियों का इस्तेमाल कर आतंक पैदा कर रही सरकार। पॉपुलर फ्रंट ऑफ़ इंडिया, एसडीपीआई नेताओं को बिना शर्त रिहा करें – एम.के. फैजी

 

 

सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष एमके फैजी ने आज तड़के पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के आवासों और कार्यालयों पर छापेमारी और उसके नेताओं की गिरफ्तारी की कड़ी निंदा की है। देश के विकास में पूरी तरह विफल हो चुकी डरपोक फासीवादी सरकार अब अपनी विफलताओं को छुपाने के लिए छद्म शत्रुओं को पैदा कर रही है।

 

खबरों के अनुसार पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के 100 से ज्यादा शीर्ष नेताओं और सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया के कुछ नेताओं को कल मध्यरात्रि के बाद देश भर से गिरफ्तार कर लिया गया है। इन गिरफ्तारियों में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के राष्ट्रीय और राज्य स्तर के नेता भी शामिल हैं। नेताओं के घर पर रेड और उनकी गिरफ्तारी को हिंदुत्व शासकों द्वारा विरोधियों को धमकाने के लिए हाथ की कठपुतली बन चुके एनआईए और ईडी द्वारा अंजाम दिया गया है।

 

नेताओं के घरों पर हुई राष्ट्रव्यापी रेड और उनकी गिरफ्तारी इस बात की तस्दीक करते हैं कि विरोध के प्रत्येक स्वर को दबाने के प्रयास लगातार जारी हैं। पिछले कुछ वर्षों से जब मुख्यधारा के राजनीतिक दल देश में फासीवादी दमन के खिलाफ मूकदर्शक बने हुए हैं, पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया और सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया ने विपक्ष की भूमिका अख्तियार कर इन अलोकतांत्रिक, विघटनकारी, हिंदुत्ववादी-फासीवादी ताकतों का डटकर मुकाबला किया है।

 

फैजी ने कहा की आर एस एस की फासीवादी सरकार अगर ऐसी रेड और गिरफ्तारियां का डर दिखाकर विरोध की मजबूत आवाजों को दबाने का सपना देख रही है, तो यह सपना कभी साकार नहीं होने दिया जाएगा। इन गैरकानूनी रेड और गिरफ्तारियों का जन आंदोलन के जरिए पुरजोर विरोध किया जाएगा। ऐसी रेड और गिरफ्तारियां का उद्देश्य इन संगठनों की छवि खराब कर देश की भोली-भाली जनता के दिलों दिमाग में खौफ पैदा करना है। लगातार रेड और आरोपों के बावजूद भी सरकार इन संगठनों के खिलाफ किसी प्रकार के देश विरोधी गतिविधियों या वित्तीय अनियमितताओं के अपराध साबित करने में विफल रही है।

 

फैजी ने कहा कि फासीवादी सरकारों के अनुचित और अलोकतांत्रिक कृत्यों पर इन तथाकथित धर्मनिरपेक्ष राजनीतिक दलों की चुप्पी बेहद दुखद और विचलित करने वाली है।

 

फैजी ने सभी धर्मनिरपेक्ष राजनीतिक दलों का आह्वान करते हुए कहा कि सबको संगठित होकर इस फासीवादी हिंदुत्व शासन को हराना होगा; और सभी गिरफ्तार नेताओं को तुरंत प्रभाव से रिहा करने की मांग की। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया भारत के धर्मनिरपेक्ष नागरिकों को साथ लेकर देशव्यापी लोकतांत्रिक धरने प्रदर्शन आयोजित कर सरकार के इन अलोकतांत्रिक फासीवादी कदमों का पुरजोर विरोध करेगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.