Twitter डिल फाइनल होते हि Elon Musk ने लिया बड़ा फैसला। CEO पराग अग्रवाल और CFO नेड सेगल को कंपनी से निकाला

टेस्ला के सीईओ एलन मस्क ने ट्विटर का मालिकाना हक हासिल कर एक बड़ा फैसला किया है। रॉयटर्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, एलोन मस्क के मालिक बनने के बाद ट्विटर के सीईओ पराग अग्रवाल और सीएफओ नेड सेगल को कंपनी से निकाल दिया गया है। खबर यह भी है कि उन्हें कंपनी मुख्यालय से भी निकाल दिया गया है।
मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि मस्क ने ट्विटर के सीईओ पराग अग्रवाल, सीएफओ नेड सेगल और कानूनी मामलों की नीति के प्रमुख विजया गुडे को कंपनी से निकाल दिया है। मस्क ने पहले उन पर और ट्विटर पर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर फर्जी खातों की संख्या के बारे में निवेशकों को गुमराह करने का आरोप लगाया था। रिपोर्ट्स के मुताबिक, जब एलोन मस्क ने ट्विटर के साथ डील फाइनल की तो अग्रवाल और सेगल ऑफिस में थे। हालांकि इस फैसले को लेकर ट्विटर, एलोन मस्क या किसी अधिकारी की ओर से कोई आधिकारिक बयान जारी नहीं किया गया है।
इससे पहले खबर आई थी कि एलन मस्क के ट्विटर के मालिक बनते ही बड़ी संख्या में कंपनी के कर्मचारियों की छंटनी की जा सकती है। वाशिंगटन पोस्ट ने साक्षात्कारों और दस्तावेजों का हवाला देते हुए कहा कि मस्क द्वारा ट्विटर खरीदने के बाद कंपनी के 75 प्रतिशत कर्मचारियों की छंटनी की जा सकती है।

ट्विटर को खरीदने का सौदा कब और कैसे पूरा हुआ?
Elon Musk ने इसी साल 13 अप्रैल को Twitter को खरीदने की घोषणा की थी। इसने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को $ 44 बिलियन में $ 54.2 प्रति शेयर पर खरीदने की पेशकश की। लेकिन उस समय स्पैम और फर्जी खातों का हवाला देते हुए सौदा टाल दिया गया था। बाद में 8 जुलाई को मस्क ने घोषणा की कि वह अनुबंध समाप्त कर देंगे। इसके खिलाफ ट्विटर ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। फिर अक्टूबर की शुरुआत में, मस्क ने अपना रुख बदल दिया और अनुबंध पर फिर से बातचीत करने की इच्छा व्यक्त की। इस बीच, एक डेलावेयर अदालत ने 28 अक्टूबर तक सौदे को पूरा करने का आदेश दिया। कोर्ट के आदेश के मुताबिक यह डील 28 अक्टूबर तक पूरी हो गई थी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.