माॅबलिंचिंग के आतंक के शिकार मृतक मोहम्मद नेहाल उर्फ अयान के माॅबलिंचिंग स्थल का भाकपा-माले व इंसाफ मंच की जांच टीम ने किया दौरा, जारी की जांच रिपोर्ट

 

 

2 नवंबर 2022, मुज़फ्फरपुर: मंगलवार को भाकपा-माले व इंसाफ मंच की एक संयुक्त जांच टीम ने माले राज्य कमीटी सदस्य सह अखिल भारतीय खेत व ग्रामीण मजदूर सभा बिहार के राज्य सचिव शत्रुघ्न सहनी के नेतृत्व में मुज़फ्फरपुर शहर के ब्रह्मपुरा नूरी मस्जिद के निकट के रहने वाले मोहम्मद नेहाल उर्फ अयान की बर्बर माॅबलिंचींग वाले घटनास्थल कांटी थाना क्षेत्र के भिमलपुर गांव के छठ घाट तथा मृतक के घर और माॅबलिंचींग के भीड़ के शिकार घायल मौहम्मद फैजान के घर का भी दौरा किया. जांच टीम में इंसाफ मंच मुजफ्फरपुर के जिलाध्यक्ष फ़हद जमां, इंसाफ मंच बिहार के राज्य प्रवक्ता असलम रहमानी और मोहम्मद जावेद शामिल थे।

 

स्थानीय लोगों का ब्यान:

जांच टीम को भिमलपुर गांव के स्थानिय लोगों सूदिस राय,दिनेश राय, अमोद कुमार, विक्रम कुमार, छठ्ठू राय,गांधी राय आदि ने बताया कि 30 अक्तूबर 2022 रविवार को हम लोग छठ पुजा के लिए पानी में खड़े हुए थे। की महरथा निवासी शम्भू साह द्वारा हल्ला की आवाज आई के चोर चोर जिस के बाद वहां पर खड़े लोगों ने बाईक सवार दो नौजवान को पीटने लगे।

 

थोड़ी देर बाद नौजवानों ने कहा कि हम लोग चोर नही हैं बल्कि शम्भु साह की बेटी खूशी मुझे बुलाई थी हम लो उसी के बुलावे पर यहां आये हैं।

 

ये बात सुनने के बाद भीड़ वहां से हट गई और लोगों ने कहा कि ये तो शम्भु का दामाद है। लोगो ने मारना बंद कर दिया। जिस के बाद शम्भु साह ने कहां की ठीक है तुम लोग नही मारोगे तो इसे मेरे हवाले कर दो हम इस का ऐलाज करवा देंगे। शम्भु शाह ऐलाज के बहाने मोहम्मद नेहाल उर्फ अयान को एक ई रिक्शा पर रखकर भिमलपुर छठ घाट से कुछ दुर लेजाकर सड़क के किनारे फैंक दिया फिर राॅड और लोहा से आँख फोरकर कुचल कुचल कर बर्बर तरीके से उसको मौत की घाट उतार दिया।

 

लोगों ने ये भी बताया कि शम्भु साह और इस के कुछ लोग पुजा सामग्री के साथ लाठी फरसा भी लेकर छठ घाट आये हुए थे.इस से पता चलता है कि वोह पहले ही से पुरी तरह तैयार होकर आया था और लड़के को बुलाया था की छठ की भीड़ का फायदा उठाकर उसकी हत्या कर देगें।मोहम्मद नेहाल की मौत के बाद खुद ही शम्भू साह ने पुलिस को काॅल कर के बुलाया।

 

स्थानीय लोगो ने ये भी बताया कि मृतक लड़का और शम्भू साह की बेटी की 2018 में कोर्ट मैरेज शादी हो चुकी थी। ये बात पुरे गांव को मालूम है।लड़का और लड़की की एक साथ की तस्वीर और कोर्ट मैरेज सर्टिफिकेट सोशल मिडिया पर वायरल हो रहा है।

 

मृतक की मां और पिता का ब्यान:

मृतक की मां शमीमा खातुन और पिता मोहम्मद बारीक ने जांच टीम को बताया की दिनांक 30 अक्तूबर 2022 को मेरे लड़का मोहम्मद नेहाल उर्फ अयान को कांटी थाना अंतर्गत ग्राम महरथा निवासी शम्भु साह की बेटी मनोकामना उर्फ खुशी ने अपने गाँव बुलाया और मेरा लड़का मोहम्मद नेहाल उर्फ अयान अपने दोस्त मोहम्मद फैजान पिता मोहम्मद इम्तियाज के साथ पांच बजे भिमलपुर छठ घाट पहुंचा जहां पहुंचते ही मेरे बेटा के दोस्त मोहम्मद फैजान के सामने शम्भु साह पिता लखेंद्र साह, धीरज साह शम्भु साह का साला, लड़की मनोकामना कुमारी उर्फ खूशी,मोकामना की मां माला देवी,प्रभु साह, हरि साह, शम्भु साह का चेरा भाई और राहुल कुमार एवं परिवार के अन्य लोगों समेत ग्रामीण महरथा थाना क्षेत्र कांटी के सैकड़ों लोगों ने मिलकर बुरी तरह से पिट पिट कर मेरे बेटे मोहम्मद नेहाल उर्फ अयान की हत्या कर दी।

 

जांच टीम के सवालों का जवाब देते हुए शमिमा खातुन ने कहा कि पुर्व में शम्भु साह ब्रह्मपुरा थाना में ,ब्रह्मपुरा थाना काण्ड संख्या 390/18 मेरे बेटा के विरुद्ध अपने लड़की के अपहरण के संबंध में केस दर्ज कराया था जिसमे लड़की मनोकामना कुमारी उर्फ खुशी ने अपने ब्यान 164 में कहा था कि मेरा अपहरण मोहम्मद नेहाल उर्फ अयान ने नही किया था बल्कि मै अपनी मर्जी से घुमने गई थी।

 

मृतक मोहम्मद नेहाल के दोस्त मोहम्मद फैजान का ब्यान:

फैजान ने बताया की मोहम्मद नेहाल उर्फ अयान मेरा दोस्त है. उसने मूझ से कहा कि छठ घाट पर घुमने चलो तो मैं उसके साथ गया. जैसे ही हम लोग घाट पर पहुंचे वहां पर हम लोगों को देखते ही शम्भु साह ने हम दोनो का मारना शूरू कर दिया. तब हम लोग बाईक से भागने लगे तो शम्भु साह ने चोर चोर का हल्ला कर दिया तब एक साथ सैकड़ो लोग हम दोनो का मारने लगे. वहां पर एक छोटी सी मंदिर है उसकी के सामने एक पेड़ है था जिसमें मुझे बांध दिया गया. मुझे इतना मारा की मेरा हाथ और कोल्हा टूट गया. जब पुलिस के आने तक मोहम्मद नेहाल उर्फ अयान की बर्बर माॅबलिंचींग कर के उसकी हत्या कर दी गई थी।

 

जांच टीम की मांग:

जांच टीम का मानना है कि मोहम्मद नेहाल उर्फ अयान की एक साजिश के तहत बर्बर माॅबलिंचींग हत्या किया गया है। लेकिन अभी तक घटना का मुख्य आरोपी शम्भु साह समेत तमाम आरोपी आजाद घुम रहे हैं. कांटी थाना प्रभारी संजय सिंह की भुमिका भी संदिग्ध है. इसलिए सरकार से मांग है कि इस पुरे घटना की उच्चस्तरीय जांच करवाई जाये।

Leave A Reply

Your email address will not be published.