पोस्‍टऑफिस कर्मचारी ने खुद को आपराधिक गैंग का मेंबर बताकर मांगी 20 लाख की फिरौती, गिरफ्तार

फरीदाबाद : फरीदाबाद पुलिस के क्राइम ब्रांच 30 प्रभारी सेठी मलिक की टीम ने 20 लाख की फिरौती के मुकदमे में एक आरोपी को गिरफ्तार किया है. पुलिस प्रवक्‍ता सूबे सिंह के अनुसार, गिरफ्तार किए गए आरोपी का नाम श्यामवीर है जो पलवल जिले के अलावलपुर गांव का रहने वाला है. आरोपी डाक विभाग में सरकारी कर्मचारी है और फरीदाबाद में कार्यरत है. मार्च 2022 में हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी के रहने वाले देवेंद्र कुमार को डाक द्वारा पत्र प्राप्त हुआ जिसमें आरोपी ने अपने आपको आपराधिक गैंग का सदस्य बताते हुए पीड़ित से 20 लाख रुपए की फिरौती मांगी. आरोपी ने पीड़ित से फिरौती की रकम स्पीड पोस्ट के माध्यम से अपने घर के पास एक अनाथ आश्रम में भिजवाने की बात लिखी और फिरौती न देने पर पीड़ित के परिवार को जान से मारने की धमकी दी थी.

पीड़ित देवेंद्र कुमार ने पत्र मिलने के बाद इसकी शिकायत पुलिस थाना मुजेसर में दी जिसके आधार पर केस दर्ज कर जांच शुरू की गई. जब फिरौती नहीं मिली तो 29 जुलाई को आरोपी ने इस बार स्पीड पोस्ट के माध्यम से पीड़ित को दोबारा एक पत्र भेजा जिसमें उसने फिर से अपनी मांग दोहराई और फिरौती न देने की सूरत में फिर धमकी दी गई. पीड़ित ने इसकी सूचना भी पुलिस को दी. क्राइम ब्रांच 30 की टीम ने मामले में तत्‍परता से कार्रवाई करते हुए इस बार स्पीड पोस्ट से प्राप्त हुए पत्र को ट्रैक किया और आरोपी श्यामवीर को पलवल से गिरफ्तार कर लिया. पूछताछ करने के लिए आरोपी को अदालत में पेश करके 2 दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया.

पूछताछ के अनुसार, आरोपी 12वीं कक्षा तक पढ़ा हुआ है और वर्ष 2004 में एमटीएस के पद पर भर्ती हुआ था और सेक्टर 22 डाकघर में तैनात था. इससे पहले आरोपी जब प्रेस कॉलोनी स्थित डाकघर में तैनात था उस समय देवेंद्र ने उसी डाकघर में बहुत बड़ी रकम की एफडी करवाई थी. आरोपी ने सोचा कि देवेंद्र ने जब इतनी बड़ी एफडी करवाई है तो उसके पास बहुत सारे पैसे होंगे. आरोपी के सिर पर काफी कर्जा था और उसे पैसों की आवश्यकता थी इसलिए आरोपी को लालच आ गया और वह पीड़ित से पैसे ऐंठने के तरीके ढूंढने लगा. उसने इसके लिए यूट्यूब पर सर्च किया और पीड़ित के घर का पता निकलवाकर डाकघर से ही देवेंद्र को एक पत्र भेजा और उसमें अपने आपको आपराधिक गैंग का सदस्य बताते हुए उससे फिरौती मांगी थी. पुलिस पूछताछ पूरी होने के पश्चात आरोपी को अदालत में दोबारा पेश करके जेल भेज दिया गया है.

Leave A Reply

Your email address will not be published.