अमेरिका में तेजी से बढ़ रहे ‘एंटी हिंदू’ हमले, भारतीय निशाने पर या हिंदूफोबिया?

वॉशिंगटन: अमेरिका में भारतीयों और खास कर हिंदुओं और मंदिरों के खिलाफ भेदभावपूर्ण घटनाओं में बढ़ोतरी देखने को मिली है, जो बताते हैं कि अमेरिका में तेजी से हिंदूफोबिया पैर पसार रहा है। पिछले महीने हिंदुओं को टारगेट करने के कई मामले देखने को मिले हैं। इसमें से एक मामला कैलिफोर्निया में 21 अगस्त को अमेरिकी फास्टफूड चेन टाको बेल में देखने को मिला। यहां कृष्णन अय्यर अपने बेटे के साथ एक ऑनलाइन ऑर्डर लेने के लिए रुके थे। तभा काली टी-शर्ट और शॉर्ट्स में खड़े एक शख्स ने उनके धर्म पर हमला बोलना शुरू कर दिया। अय्यर बिना कुछ बोले पूरी घटना को कैमरे में रिकॉर्ड करते रहे।

उन्होंने आठ मिनट तक शब्दों से किए जा रहे हमले को सहा। लेकिन इस मामले में सबसे हैरान करने वाली चीज ये रही कि उनके खिलाफ ये दुर्व्यहार किसी अमेरिकी ने नहीं बल्कि एक भारतीय-अमेरिकी ने किया, जिसकी पहचान तजिंदर सिंह के रूप में हुई है। तजिंदर ने कृष्णन के शाकाहारी होने के मजाक उड़ाया और उनके सामने बीफ ऑर्डर किया। तजिंदर ने यहां तक कह डाला कि ये गाय के मूत्र से नहाते हैं।

तजिंदर ने बार-बार कृष्णन को ‘डर्टी हिंदू’ कह कर संबोधित किया। अय्यर ने इस घटना को घृणित करार दिया और कहा, ‘मैं लगातार मेडिटेशन करता हूं, ऐसे में मेरे लिए शांत रहना आसान था। मुझे समझ आ गया था कि उसकी आत्मा संकट में है।’ घटना को बढ़ता देख रेस्टोरेंट के मालिक ने पुलिस को फोन किया। दो पुलिस वाले आए तो तजिंदर वहां से भाग निकला। इस शख्स को पंजाबी बोलते हुए और पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी का अपमान करते हुए भी सुना जा सकता है।

कैलिफोर्निया में महिलाओं को बनाया गया निशाना

भारतीयों के खिलाफ टेक्सस के प्लानो में 25 अगस्त को महिलाओं के साथ बदसलूकी देखने को मिली। यहां एक अमेरिकी महिला ने चार भारतीय महिलाओं को अपशब्द कहना शुरू कर दिया। उसे इस बात से दिक्कत थी कि हर जगह उसे भारतीय ही दिख रहे थे। उसने कहा कि मुझे भारतीयों से नफरत है, क्योंकि वह एक अच्छे जीवन के लिए अमेरिका में आ रहे हैं। बाद में महिला को गिरफ्तार कर लिया गया।

मंदिर पर हुआ हमला

न्यू यॉर्क में हिंदू मंदिर के सामने महात्मा गांधी की एक प्रतिमा लगी थी। लेकिन इसे शरारती तत्वों ने एक महीने में दो बार तोड़ दिया। घटना को छह अज्ञात लोगों ने अंजाम दिया। घटना को लेकर भारत ने प्रतिक्रिया दी और अमेरिकी अधिकारियों के साथ इस मामले में जिम्मेदारों पर कार्रवाई की मांग की। इसके साथ ही जब घटना दूसरी बार हुई तो कई सिख, यहूदी और हिंदू संगठन एक साथ आए और मंदिर के बाहर इकट्ठा हुए। हिंदू अमेरिकी फाउंडेशन के एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर सुहाग शुक्ला ने बताया कि घटना के बाद खलिस्तान समर्थक नारे लगाए।

बढ़ रहीं हिंदू विरोधी घटनाएं

द वाशिंगटन पोस्ट के मुताबिक FBI के हेट क्राइम डेटा एक्सप्लोरर के मुताबिक 2020 में हिंदुओं के खिलाफ 11 घटनाएं रेकॉर्ड हुईं। वहीं मुस्लिमों के मामले में ये आंकड़ा 110 था और सिखों के खिलाफ हेट क्राइम में ये 89 मामले थे। लेकिन जुलाई में प्रकाशित की गई रटगर्स यूनिवर्सिटी की कॉन्टैगियन लैब के एक रिसर्च में पाया गया है कि हिंदू विरोधी भावनाएं बढ़ रही हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.