बैंक ऑफ इंडिया ने मनाया 117वां स्थापना दिवस

मुंबई: देश में सार्वजनिक क्षेत्र के सबसे बड़े बैंकों में से एक बैंक ऑफ इंडिया ने 7 सितंबर, 2022 को अपना 117वां स्थापना दिवस मनाया। बैंक ऑफ इंडिया ने अपनी 116 साल की शानदार यात्रा पूरी कर ली है और इस मौके पर बैंक ने अपनी सफलता का श्रेय अपने ग्राहकों, हितधारकों, संरक्षकों और शुभचिंतकों को दिया है, जिन्होंने हर कदम पर बैंक का साथ निभाया। 30 जून, 2022 तक कुल 5105 शाखाओं के साथ बैंक ऑफ इंडिया की देश भर में उपस्थिति है। बैंक की 25 विदेशी शाखाएँ भी हैं।

स्थापना दिवस समारोह के अवसर पर बैंक और उसके प्रतिष्ठानों में अनेक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। मुख्य समारोह का उद्घाटन बीओआई के एमडी और सीईओ श्री ए के दास ने बैंक के सभी एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर श्री पी आर राजगोपाल, श्री स्वरूप दासगुप्ता, श्री एम कार्तिकेयन और सुश्री मोनिका कालिया और सभी स्टाफ सदस्यों की उपस्थिति में प्रधान कार्यालय, बीकेसी, मुंबई में किया।

दशकों से, बैंक दृढ़ता, विवेक और सावधानी की नीति अपनाकर अपने ग्राहकों के लिए विभिन्न उत्पादों और सेवाओं को प्रदान करने में सबसे आगे रहा है। आज बैंक खुदरा, कृषि और एमएसएमई सभी वर्गों की आबादी को सेवा प्रदान करते हुए देश को पूरी तरह से आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में एक महत्वपूर्ण योगदान दे रहा है।

स्थापना दिवस के महत्वपूर्ण अवसर पर बैंक ने अपने अधिकांश उत्पादों और सेवाओं को डिजिटल मोड के माध्यम से उपलब्ध कराने के इरादे से अपनी विभिन्न डिजिटल पहलों को लॉन्च किया। बैंक ने अपनी गो डिजिटल पहल के तहत ‘बीओआई ई-ट्रेड’ को लॉन्च किया, जो निर्बाध व्यापार वित्त और सप्लाई चेन फाइनेंस के लिए एक पूरी तरह से डिजिटल प्लेटफॉर्म है। साथ ही, डिजिटल रूप से गोल्ड लोन उपलब्ध कराने के लिए बीओआई ई-गोल्ड, बीओआई बिज़ पे- पूरी तरह से सुरक्षित और तेज़ मर्चेंट ऐप भी लॉन्च किया, जो भुगतान और लेनदेन संबंधी सभी जरूरतों को पूरा करता है। बैंक ने बचत खाता खोलने के डिजिटल मोड के साथ इसे ई-बचत नाम दिया और एमएसएमई के तहत मुद्रा लोन (शिशु) का लाभ उठाने के लिए डिजिटल एंड टू एंड यात्रा के लिए अपनी ई मुद्रा को भी लॉन्च किया।

बैंक ऑफ इंडिया ने अपनी सीएसआर गतिविधियों के तहत विभिन्न कदम भी उठाए हैं, जिसमें महाराष्ट्र सरकार के महिला एवं बाल विकास विभाग के माध्यम से छात्रों (जिन्होंने अपने माता-पिता को कोविड -19 में खो दिया है) को स्टडी किट के वितरण के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करना शामिल है। एक अन्य सीएसआर गतिविधि में, बैंक ने पुनर्वास एजुकेशन सोसाइटी, मुंबई के माध्यम से बौद्धिक रूप से दिव्यांग छात्रों के लिए कंप्यूटर, किताबें, नए और उन्नत खिलौनों की खरीद के लिए वित्तीय सहायता प्रदान की। बीओआई स्टाफ के सदस्यों ने सीएसआर गतिविधियों के क्षेत्रों में ‘स्थानीय सामुदायिक सेवा/सामाजिक गतिविधि’ में भी भाग लिया। इस दौरान स्टाफ ने स्वच्छता पहल, वृक्षारोपण/वनरोपण, गरीब छात्रों के शिक्षण/प्रशिक्षण, गरीबों और जरूरतमंदों के लिए कोई विकासात्मक गतिविधि और/या जल संरक्षण/पर्यावरण संरक्षण आदि के लिए जागरूकता अभियान मंे अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया। ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान’ के तहत 8,700 से अधिक लड़कियों की शिक्षा में सहायता करके बैंक ने राष्ट्रव्यापी सीएसआर गतिविधियां भी शुरू कीं।

इस विशेष अवसर को मनाने के लिए सम्मान के प्रतीक के रूप में बैंक ने हाल ही में संपन्न राष्ट्रमंडल खेलों में देश के लिए स्वर्ण पदक जीतने पर अपने स्टाफ ऑफिसर-वर्ल्ड बॉक्सिंग चौंपियन – निखत जरीन को सम्मानित किया। बैंक ने 45000 से अधिक महिलाओं को सम्मानजनक आजीविका अर्जित करने और उन्हें आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में उत्कृष्ट योगदान के लिए लिज्जत पापड़ महिला गृह उद्योग की संस्थापिका श्रीमती जसवंतीबेन पोपट को भी सम्मानित किया। बीओआई स्टाफ और भारतीय शास्त्रीय गायक – पंडित सुरेश बापट जी को भी संगीत के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए सम्मानित किया गया।

बैंकिंग के क्षेत्र में और समाज की बेहतरी के लिए अपने अपार योगदान के लिए बैंक ऑफ इंडिया ने विभिन्न पुरस्कार और सम्मान भी हासिल किए हैं। जिनमें से कुछ हैं- बैंक ऑफ इंडिया को भारत सरकार के कृषि और किसान कल्याण विभाग की प्रमुख योजनाओं में से एक एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर फंड स्कीम (एआईएफ) को लागू करने में शीर्ष 3 सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले बैंकों में से एक के रूप में सम्मानित किया गया। बैंक को कोविड रेस्पॉन्स इनोवेशन कैटेगरी के तहत बड़े बैंकों के सेगमेंट के बीच इंफोसिस द्वारा फिनेकल इनोवेशन अवार्ड्स 2021 के तहत उपविजेता के रूप में सम्मानित किया गया। बैंक ऑफ इंडिया को आईएफसीआई वेंचर कैपिटल लिमिटेड द्वारा अनुसूचित जाति उद्यमियों को उधार देने के लिए ‘डॉ अम्बेडकर बिजनेस एक्सीलेंस अवार्ड’ से सम्मानित किया गया है। फोर्ब्स मीडिया ने इंडिपेंडेंट मार्केट रिसर्च कंपनी स्टेटिस्टा इंक के सहयोग से बैंक ऑफ इंडिया को विश्व के सर्वश्रेष्ठ नियोक्ता-2021 के तौर पर मान्यता प्रदान की गई और सम्मानित किया गया है। इसी तरह के अन्य अनेक सम्मान भी बैंक ने हासिल किए हैं।

बैंक अपने ग्राहकों को बेहतर सेवाएं और सुविधाएं प्रदान करने के लिए अपने कार्यक्षेत्र और सेवाओं का विस्तार कर रहा है और नए क्षेत्रों में कदम रख रहा है। बैंक बड़े पैमाने पर समाज की बेहतरी और उत्थान के लिए प्रयासरत है। यह अपनी टैगलाइन ‘रिलेशनशिप बियॉण्ड बैंकिंग’ के साथ पूरी ईमानदारी और सच्चाई से खड़ा है और सही अर्थों में पीपुल्स बैंक बना हुआ है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.