सिर्फ मदरसों का क्यों, सभी धर्मों के शिक्षण संस्थानों का कराएं सर्वे: नकवी

लखनऊ। गैर सरकारी मान्यता प्राप्त मदरसों का सर्वे कराए जाने के उत्तर प्रदेश सरकार के निर्णय पर मजलिसे उलमा-ए-हिंद ने नाराज़गी जताई है। मजलिस के महासचिव व शीआ धर्मगुरु मौलाना सैयद कल्बे जव्वाद नकवी ने कहा कि सरकार के इस फैसले से अल्पसंख्यकों में सरकार के प्रति असंतोष पैदा होगा। उन्होंने कहा कि अगर गैर मान्यता प्राप्त शिक्षण संस्थानों का सर्वे कराना है तो केवल अल्पसंख्यक मदरसों के सर्वे की बात न की जाए, बल्कि सभी धर्मों और समुदायों के शिक्षण संस्थानों का सर्वे कराया जाए, ताकि असमानता का मसला पैदा न हो। वहीं, यह भी पता चलेगा कि मदरसे अन्य वर्गों के शिक्षण संस्थानों की तुलना में कितने पिछड़े हैं।

मौलाना नकवी ने उत्तर प्रदेश सरकार से फैसले पर पुनर्विचार करने की मांग की। यह मांग करने वालों में मजलिस के संरक्षक मौलाना नईम अब्बास, अध्यक्ष मौलाना सैयद हुसैन महदी हुसैनी, शिआ जामा मस्जिद दिल्ली के इमाम-ए-जुमा मौलाना सैयद मोहसिन तकवी आदि शामिल हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.