देश में तेज़ी से फैल रहा डेंगू, अब तक 80,000 से ज़्यादा मामले हुए दर्ज।

 

केंद्र की ओर से गठित 13-14 टीमें सबसे ज़्यादा प्रभावित राज्यों का दौरा कर रही हैं। तेलंगाना, राजस्थान और महाराष्ट्र जैसे राज्यों में सबसे ज़्यादा मामले दर्ज किए गए हैं।

 

डेंगू देश में तेज़ी से फैल रहा है। देश भर में इस साल अब तक डेंगू के क़रीब 80 हज़ार मामले सामने आए हैं। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के सूत्रों के हवाले से मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक़ 12 राज्यों में डेंगू की वजह से अब तक 60 मरीज़ों की मौत हो चुकी है। डेंगू से सबसे ज़्यादा मौत केरल में हुई है जहां 20 मरीज़ अपनी जान गंवा चुके हैं। राजस्थान और हरियाणा में 6-6 मरीज़ों की मौत हो चुकी है। वहीं पश्चिम बंगाल और पंजाब में 3-3 मरीज़ों की मौत हुई है। बिहार और तमिलनाडु में भी डेंगू की वजह से मौत के मामले दर्ज किए गए हैं।

 

एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक़ केंद्र की ओर से गठित 13-14 टीमें सबसे ज़्यादा प्रभावित राज्यों का दौरा कर रही हैं। बीते ढाई महीनों में डेंगू के मामले तेज़ी से बढ़े हैं। दिल्ली, यूपी समेत कई राज्यों ने अस्पतालों को कुछ बेड डेंगू मरीज़ों के लिए आरक्षित करने के निर्देश दिए हैं। वहीं, राज्यों ने अपने टीमें भी बनाई हैं, जो डेंगू के स्थिति पर निगरानी रख रही हैं।

 

ज्ञात हो कि अलग-अलग राज्यों में कुल मामलों का क़रीब 25% जनवरी से जून तक रिपोर्ट हुए हैं।

 

दिल्ली में अक्टूबर के पहले 12 दिनों में 635 मामले।

दिल्ली में अक्टूबर महीन में 12 तारीख़ तक डेंगू के 635 मामले दर्ज किए गए। दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) की रिपोर्ट के मुताबिक़, अब तक सामने आए डेंगू के 1,572 मामलों में से 693 केवल सिंतबर में सामने आए हैं। रिपोर्ट के मुताबिक़, दिल्ली में इस साल सितंबर अंत तक डेंगू के 937 मामले सामने आए थे और अक्टूबर के पहले 12 दिनों में 635 नये मामले दर्ज किए गए हैं। बता दें, दिल्ली में साल 2015 में डेंगू का जबरदस्त प्रकोप देखने को मिला था और तब अक्टूबर में डेंगू के 10,600 से अधिक मामले दर्ज किए गए थे।

 

बिहार की राजधानी पटना में सबसे ज़्यादा संक्रमण

 

बिहार की राजधानी पटना स्थित नालंदा मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल (एनएमसीएच) में गत रविवार को चार माह की एक बच्ची की डेंगू के संक्रमण से मौत हो गई थी। पिछले सप्ताह में एनएमसीएच के बाल रोग वार्ड में डेंगू से यह तीसरी मौत थी। गत शनिवार को नालंदा के पांच वर्षीय बच्चे की अस्पताल में मौत हो गई थी। इससे पहले बिहटा के एक 10 वर्षीय लड़के ने भी 10 अक्टूबर को अस्पताल में डेंगू से दम तोड़ दिया था। इसके साथ ही इस साल राज्य में अब तक डेंगू का आंकड़ा बढ़कर 5 हज़ार से ज़्यादा हो गया है। ताज़ा 305 मामलों में से पटना में 265, जहानाबाद और सीवान में 10-10, मुज़फ़्फ़रपुर में पांच, गया में तीन, समस्तीपुर में दो और बेगूसराय, पूर्वी चंपारण, नालंदा, नवादा, सारण, शेखपुरा, शिवहर, सीतामढ़ी, वैशाली और पश्चिम चंपारण में एक-एक मामले सामने आए हैं। डेंगू के 265 ताज़ा मामलों के साथ पटना में यह संख्या 4,126 हो गई है।

 

उत्तर प्रदेश में पिछले साल नवंबर की शुरूआत तक 23 हज़ार से ज्यादा मामले सामने आ चुके थे।पिछले साल सबसे ज़्यादा मामले फिरोज़ाबाद, लखनऊ, झांसी, गाजियाबाद और प्रयागराज में मिले थे। पिछले साल उत्तर प्रदेश में 2016 के बाद सबसे ज़्यादा मामले दर्ज किए गए थे।

 

वहीं पंजाब की बात करें तो पिछले साल नवंबर महीने की शुरूआत तक 18,266 मामले सामने आ चुके थे और 60 लोगों की मौत हो चुकी थी। इससे पहले साल 2017 में 15,398 मामले सामने आए थे।

 

राजस्थान में भी डेंगू ने पिछले साल अपना कहर बरपाया था। नवंबर के शुरूआती सप्ताह तक राज्य में डेंगू के 13 हज़ार से ज़्यादा मरीज़ सामने आए थे। राज्य के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल सवाई मान सिंह अस्पताल में ही पिछले साल डेंगू से 58 मरीज़ों की मौत हो चुकी थी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.