Browsing Tag

(हमें भी टीवी और इंटर्नेट पर बेहयाई के प्रोग्रामों को देखने से बाज आना चाहिए)

सना खान, सहर अफशा और जायरा वसीम की तौबा में हमारे लिए सबक क्यों नहीं है?

  डॉ॰ मुहम्मद नजीब क़ासमी संभली (www.najeebqasmi.com) इंसान गुनाह कर सकता है, मगर बेहतरीन इंसान वह है जो गुनाह करने के बाद अल्लाह तआला से सच्ची तौबा करले। सच्ची तौबा के लिए गुनाह पर नादिम होने के साथ आइंदा ना करने का पक्का…
Read More...