मदरसों और AMU को बम से उड़ा देने की बात करने वाले यति नरसिंहानंद पर FIR दर्ज

 

नई दिल्ली: अपने विवादित बयानों को लेकर चर्चा में बने रहने वाले यति नरसिंहानंद की मुश्किलें एक बार फिर से बढ़ गई हैं। दरअसल, अलीगढ़ में मदरसों और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय को कथित तौर पर बम से उड़ा देने की बात कहने वाले यति पर एफआईआर दर्ज हुई है।

बता दें कि, गाजियाबाद के डासना मंदिर के महंत यति नरसिंहानंद रविवार, 18 सितंबर को अलीगढ़ में हिंदू महासभा के एक कार्यक्रम में पहुंचे थे। इसी कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा गैर-मान्यता प्राप्त मदरसों के चल रहे सर्वेक्षण के बारे में बोलते हुए, यति नरसिंहानंद ने कहा कि मदरसे जैसी संस्था होनी ही नहीं चाहिए।

यति नरसिंहानंद द्वारा कथित तौर पर दिए एक बयान वीडियो भी सामने आया है जिसमें उन्हें यह कहते हुए सुना जा सकता है, “चीन की तरह यहां भी सारे मदरसों को बारूद से उड़ा दिया जाना चाहिए। मदरसों के सभी छात्रों को कैम्पों में भेजा जाना चाहिए ताकि उनके दिमाग से कुरान नामक वायरस से हटा दिया जाए।” इस विवादित बयान के बीच यति नरसिंहानंद यहीं नहीं रुके, उन्होंने कहा कि “मदरसों की तरह अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) को भी बम से उड़ा देने की बात कह डाली। साथ ही कहा कि यहां के छात्रों को डिटेंशन सेंटर भेजकर उनके दिमाग का इलाज किया जाना चाहिए।”

अलीगढ़ में हिंदू महासभा के कार्यक्रम में पहुंचे यति नरसिंहानंद ने राहुल गांधी और कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा पर भी निशाना साधा। यति नरसिंहानंद ने यात्रा को मजाक बताते हुए कहा, “राहुल गांधी जिहादियों के साथ हैं। वह उत्तर प्रदेश में नहीं जीत सके इसलिए केरल गए और वायनाड से चुनाव लड़ा।”

यह पहली बार नहीं है जब डासना मंदिर के महंत यति नरसिंहानंद ने विवादित बयान दिया हो। इससे पहले भी उनपर अभद्र भाषा के लिए मामला दर्ज किया जा चुका है। यति को पिछले साल हरिद्वार में धर्म संसद में हेट-स्पीच के मामले में गिरफ्तार किया गया था। हालांकि, बाद में उन्होंने जमानत पर छोड़ दिया गया था। यति नरसिंहानंद पर हाल ही में महात्मा गांधी के खिलाफ विवादास्पद टिप्पणी करने के लिए मामला दर्ज किया गया था। उस घटना के वायरल हुए एक वीडियो में, यति नरसिंहानंद को यह कहते हुए सुना जा सकता है कि “महात्मा गांधी एक करोड़ हिंदुओं की हत्या के लिए जिम्मेदार थे।”

Leave A Reply

Your email address will not be published.