राज्य के सभी सरकारी अस्पतालों में हिंदी के साथ उर्दू में भी लिखे जाएंगे साइनबोर्ड और नेमप्लेट।

 

उन्नाव:(अबू शहमा अंसारी)

राज्य के सभी सरकारी अस्पतालों में हिंदी के साथ उर्दू में भी लिखे जाएंगे साइनबोर्ड और नेमप्लेट। यह फैसला उन्नाव निवासी मोहम्मद हारून की एक शिकायत के बाद लिया है, जिन्होंने कहा था कि शासनादेश के बावजूद भी कई सरकारी विभाग राज्य की दूसरी आधिकारिक भाषा उर्दू को साइनेज पर उर्दू को छोड़ रहे हैं. निदेशक प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, स्वास्थ्य भवन लखनऊ से जारी आदेश में राज्य के सभी मुख्य चिकित्सा अधिकारियों (सीएमओ) को सरकारी आदेश के जरिए यह निर्देश देने को कहा गया है कि सभी जिला अस्पतालों, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों और स्वास्थ्य विभाग के अन्य प्रतिष्ठानों के साइनबोर्ड, नेमप्लेट हिंदी के नीचे उर्दू में भी लेखन किया जाए।देखना ये है कि अधिकारी इस आदेश पर कितना पालन करते है।शिकायत में क्या कहा गया? उन्नाव निवासी मोहम्मद हारून ने अपनी शिकायत में कहा था कि उर्दू को राज्य की दूसरी आधिकारिक भाषा घोषित किए जाने के बावजूद स्वास्थ्य विभाग सहित कई सरकारी विभाग सरकारी आदेशों का पालन नहीं कर रहे हैं. अगर यह सरकारी आदेश लागू होता है, तो 167 जिला अस्पतालों, 2,934 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों और 873 सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों के डिस्प्ले बोर्ड पर हिंदी के साथ-साथ उर्दू भी होगी. यूपी ने यूपी राजभाषा (संशोधन) अधिनियम, 1989 के माध्यम से दूसरी भाषा के रूप में उर्दू को अपनाया था, जिसने यूपी राजभाषा अधिनियम, 1951 में धारा 3 को जोड़ा था।

Leave A Reply

Your email address will not be published.