प्रयागराज के बाघंबरी मठ में महंत के कमरे से मिले तीन करोड़ कैश, करोड़ों के जेवरात और जमीनों के कागजात।

 

 

प्रयागराज: महंत नरेंद्र गिरि की आत्महत्या की जांच कर रही सीबीआई टीम बृहस्पतिवार को अल्लापुर स्थित बाघंबरी मठ पहुंची। टीम ने प्रशासनिक, पुलिस, बैंक अधिकारियों और मठ के संतों के सामने महंत के कमरे का ताला खोला। कमरे से लगभग तीन करोड़ नकद, करोड़ों के जेवरात और करोड़ों की जमीन के कागजात और कारतूस मिले हैं। नगदी, आभूषण और जमीन के कागजातों को नए महंत बलवीर गिरि को सौंप दिया गया।

 

बाधंवरी मठ के अतिथि गृह में महंत नरेंद्र गिरि का शव 20 सितंबर 2021 को फंदे पर लटका मिला था। इस मामले में सीबीआई ने जांच की थी। जांच के बाद सीबीआई ने महंत का शयन कक्ष सील कर दिया था। नए महंत बलवीर गिरि ने कमरे का ताला खोलने के लिए कोर्ट से गुहार लगाई थी। कोर्ट के आदेश के बाद सीबीआई टीम बृहस्पतिवार को दिन में मठ पहुंची।

 

इस दौरान सीबीआई टीम के साथ एसीएम तृतीय अभिनव कनौजिया, एसीएम चतुर्थ गणेश कुमार कनौजिया और सीओ चतुर्थ राजेश यादव के साथ ही एक बैंक अधिकारी भी मौजूद रहा। सीबीआई टीम ने सील करने से पहले कमरे में रखे सामानों की सूची तैयार की थी। टीम ने सबसे पहले अपनी सूची के अनुसार कमरे में मिली चीजों का मिलान किया। कमरे में लगभग तीन करोड़ रुपये कैश के अलावा करोड़ों के आभूषण और करोड़ों की जमीन के कागजात भी मिले। महंत की वसीयत भी कमरे में थी।

 

अपने ही शिष्य पर आरोप लगाकर खुदकुशी कर ली थी महंत नरेंद्र गिरि ने।

प्रयागराज शहर की जानी मानी हस्ती मठ बाघंबरी गद्दी और बड़े हनुमान मंदिर के महंत नरेंद्र गिरि ने लगभग एक साल पहले 20 सितंबर को फांसी लगाकर खुदकुशी की तो शहर ही नहीं पूरे प्रदेश में हड़कंप मच गया था। नरेंद्र गिरि ने अपने ही शिष्य आनंद गिरि पर ब्लैकमेलिंग का आरोप लगाया था। सुसाइड नोट और जांच के आधार पर सीबीआई आनंद गिरि, आद्या तिवारी और संदीप तिवारी के खिलाफ चार्जशीट दाखिल कर दी है। तीनों अभी जेल में हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.