यति नरसिंहानंद का आतंकी बयान: मदरसों को बम से उड़ा दो, AMU का भी यही हश्र हो।

 

नई दिल्ली: विवादित बयानों और आतंकी बोलों को लेकर चर्चाओं में रहने वाले महामंडलेश्वर यति नरसिंहानंद गिरी रविवार को मदरसों व एएमयू को लेकर बिगड़े बोल बोलते नज़र आए।
शब्दों के ज़रिए तीखे प्रहार किए तो लखीमपुर खीरी व लंपी वायरस को लेकर प्रदेश सरकार को भी घेरा। यति ने एएमयू का नाम लिए बगैर कहा, मदरसों की तरह ही इसका भी हश्र होगा। नरसिंहानंद ने कहा, मदरसे होने ही नहीं चाहिए, इन्हें तो बारूद से उड़ा देना चाहिए।

आतंकी बोल वाले यति नरसिंहानंद रविवार को नौरंगाबाद स्थित बीदास कंपाउंड में आयोजित भागवत कथा के समापन समारोह में आए थे। पत्रकारवार्ता के दौरान नरसिंहानंद ने मदरसों व एएमयू को लेकर खूब ज़हर उगला। नरसिंहानंद ने कहा, मदरसों को तो बारूद से उड़ा देना चाहिए।
नरसिंहानंद ने कहा कि देश में मदरसे नहीं होने चाहिए। मदरसे के सारे विद्यार्थियों को ऐसे शिविरों में भेज देना चाहिए, जहां से उनके दिमाग से एक धार्मिक ग्रंथ का नाम निकाला जा सके। लखीमपुर खीरी की घटना पर कहा कि समाज को जागरूक होने की ज़रूरत है। अगर ऐसा नहीं हुआ तो गंभीर परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं।

नरसिंहानंद ने कहा कि 20 सितंबर को महात्मा गांधी की सामाधि से गृहमंत्री को पत्र लिखूंगा। लंपी वायरस की चपेट में आई गौमाता के सवाल पर बोले कि देश के विभिन्न राज्यों में लंपी वायरस से गौमाता मर रही है। यह बहुत ही दुखद है। सरकार इस बीमारी पर कंट्रोल नहीं कर पा रही है।
गौमाता का वोट नहीं है अगर गाय का वोट बनवा दें तो सरकार गाय की चिंता करेगी। अन्यथा सरकार को गोमाता की चिंता नहीं है। पीएम मोदी द्वारा अपने जन्मदिन पर कूनो पार्क में चीते छोड़े जाने के सवाल पर नरसिंहानंद कुछ बोलने से बचते दिखे। इस दौरान अखिल भारतीय हिन्दू महासभा की राष्ट्रीय सचिव महामंडलेश्वर अन्नपूर्णा भारती व अन्य मौजूद रहे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.